Kabhi Yun Lyrics

Advertisement

कभी यूं हो के मैं
बादलों पर नजमे लिख दूँ
कभी यूं हो के मैं
बादलों पर नजमे लिख दूँ

कौन जाने कभी सावन में
तुम पर जा बरसे
कौन जाने कभी सावन में
तुम पर जा बरसे

कभी यूं हो, कभी यूं हो
कभी यूं हो

लिरिक्सबोगी.कॉम

हवों पर नजमे लिख दूँ
हवों पर नजमे लिख दूँ
कौन जाने कभी मेरा अनकहा पैगाम
तुम्हें छु कर हा
तुम्हें छु कर जता दे जता दे
कभी यूं हो

Advertisement

रेत पर नजमे उकेर दूँ
क्या पता तुम्हारे पाव तले आ जाए
और नज़मों में अपना ज़िक्र पा

तुम अंदर तक सिहर जाओ ठिठक जाओ
और उस एक पल ख़यालो में
बस मैं रहु बस मैं रहु
और उस एक पल ख़यालो में
बस मैं रहु
कभी यूं हो.

Kabhi yun ho ke main
Badlon par nazme likh doon
Kabhi yun ho ke main
Badlo par nazme likh doon

Kaun jaane kabhi saavan mein
Tum par jaa barse
Kaun jaane kabhi saavan mein
Tum par jaa barse

Kabhi yun ho, kabhi yun ho
Kabhi yun ho

Hawaon par nazme likh doon
Hawaon par nazme likh doon
Kaun jaane kabhi mera ankaha paigam
Tumhe chhu kar haaa
Tumhe chhu kar jata de jata de
Kabhi yun ho

lyricsbogie.com

Ret par nazme uker doon
Kya pata tumhare paav tale aa jaye
Aur nazmon mein apna zikr paa

Tum andar tak sihar jaao thitak jaao
Aur us ek pal khayalo mein
Bas main rahu bas main rahu
Aur us ek pal khayalo mein
Bas main rahu
Kabhi yun ho.

READ  Janmein Awadh Mein Ram Lyrics – Tripti Shakya
Advertisement
Advertisement
Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *